दुनिया के सबसे शातिर चोर DB Cooper की कहानी | DB Cooper Story in Hindi

 DB Cooper Story in Hindi

हमारी दुनिया बहुत सी रहस्यों से भरी पड़ी है और बहुत से रहस्यों को तो सुलझा लिया जाता है लेकिन बहुत से रहस्य ऐसे भी होते हैं जो हमेशा के लिए रहस्य ही बन कर रह जाते है। आज की कहानी अमेरिका के DB Cooper नाम के ऐसे चोर की है जो पूरी दुनिया के लिए आज तक रहस्य ही बना हुआ है। FBI और बहुत सी जाँच एजेंसियां इस चोर को पकड़ने के लिए 50 साल से ज्यादा का समय खर्च कर चुकी है लेकिन उन्हें अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है।

Pic Credit - Wikipedia


घटना 

यह घटना 24 नवम्बर 1971 की है जब Dan Cooper नाम का एक व्यक्ति काला सूट पहन कर और काला बैग लेकर एक जेंटलमैन की तरह अमेरिका के पोर्टलैंड एयरपोर्ट पर पहुंचता है और टिकट काउंटर से Boeing 727 प्लेन में अपने लिए $20 में पोर्टलैंड (Portland) से सीएटल (Seattle) की एक तरफा टिकट बुक कराता है। उस समय अमेरिका के एयरपोर्ट्स में ज्यादा सुरक्षा के इंतेज़ाम नहीं थे इसीलिए Dan Cooper अपने बैग को आसानी से प्लेन के अंदर ले जाने में सफल हो गए और अपनी सीट 18C पर बैठ जाते है।  2:50 p.m. PST में प्लेन पोर्टलैंड से उड़ती है और उड़ने के कुछ देर बाद Cooper अपने लिए Bourbon ड्रिंक और सोडा ऑर्डर करते हैं। उनके फ्लाइट का सफर सिर्फ 30 मिनट का ही था इसीलिए ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए वे अपने प्लान में लग जाते हैं, Dan Cooper अपने नजदीक खड़ी Florence Schaffner नाम की फ्लाइट अटेंडेंट को पास बुलाकर उसे एक पर्ची देते है पहले फ्लाइट अटेंडेंट को लगता है कि Cooper उसके साथ फ़्लर्ट कर रहा है इसलिए वह उसे अपने पर्स में डालती है लेकिन फिर Cooper उसकी तरफ़ झुक कर धीरे से उसे वह पर्ची पढ़ने के लिए कहता है। उस पर्ची में लिखा था कि उसके पास बैग में बम है और अटेंडेंट को उसके पास बैठने को कहा गया था। इसके बाद अटेंडेंट घबराकर उसके पास बैठ जाती है और Cooper को बम दिखाने को कहती है तो Cooper अपना बैग थोड़ा सा खोलकर उसे बम दिखाता है और अपनी मांग उसके सामने रखता है और कहता है कि उसे $200,000 और 4 पैराशूट चाहिए नही तो वह प्लेन को बम से उड़ा देगा और अगर उसकी मांगे मान ली जाती है तो वह सभी यात्रियों को सुरक्षित जाने देगा। Schaffner डेन कूपर की मांगों को लेकर कॉकपिट में बैठे पायलट के पास पहुंचती है और पायलट कूपर की सभी मांगो को Seattle के एयर ट्रैफिक कंट्रोल तक पहुंचाता है, यह खबर FBI और पुलिस तक पहुंच जाती है और उन सभी को पता लग चुका था कि प्लेन हाईजैक हो चुका है। एयर होस्टेस जब वापिस प्लेन में जाती है तो देखती है कि Dan Cooper काला चश्मा लगा कर बिल्कुल आराम से बैठा है जैसे कुछ हुआ ही न हो और अपना ड्रिंक पी रहा था और वह बिल्कुल भी डरा हुआ नहीं था इसी वजह से प्लेन में मौजूद यात्रियों को भनक तक नहीं थी कि प्लेन हाईजैक हुआ है। उधर यात्रियों की जान बचाने के लिए FBI द्वारा Dan Cooper की सब माँगो को मान लिया जाता है और वे चलाकी दिखाते हुए पूरे $200,000 को $20 के नोटों से भरते है ताकि बैग ज्यादा भारी हो सके और सभी नोटों के सीरियल नंबर भी तय किये जायें है ताकि बाद में Cooper को पकड़ने में आसानी हो सके।

एयरप्लेन की लैंडिंग होने के बाद 

 5:39 PST में प्लेन सीएटल के एयरपोर्ट पर लैंड करता है और Cooper की मांग के पैराशूट और पैसे मिलने के बाद वह अपने वादे के मुताबिक सभी 36 यात्रियों को प्लेन से सुरक्षित उतरने देता है। वह प्लेन में 2 पायलट 1 फ्लाइट इंजीनियर और 1 फ्लाइट अटेंडेंट को रहने के लिए कहता है और प्लेन मेक्सिको के लिए उड़ान भरती है और FBI चालाकी से 2 अमेरिकी जासूसी जहाजों को प्लेन के पीछे लगा देती है। उड़ान के दौरान पायलट बताता है कि प्लेन में मेक्सिको पहुंचने जितना ईंधन नहीं है तो Cooper उसे प्लेन को Reno, Nevada की तरफ़ ले जाने को कहता है और प्लेन को 10,000 फुट की ऊंचाई में 100 Knot (185 किलोमीटर प्रति/घण्टे) की रफ्तार से से कम उड़ाने को कहता है। Cooper हवाई सीडी (Airstair) कैसे खुलता है इसके बारे में फ्लाइट अटेंडेंट से पूछता है और फिर उसे भी कॉकपिट पर बाकी लोगों के साथ रहने और दरवाजा अंदर से बंद करने को कहता है। 8 बजे के करीब ऐरस्टाइर खुलने के कारण कॉकपिट में वार्निंग लाइट जलने लगती है और Dan Cooper पैसे और पैराशूट लेकर जहाज से कूदता है (और हमेशा के लिए गायब हो जाता है)। 

Real Also - Most Secret Places in the World | दुनिया के सबसे रहस्यमयी जगह जहाँ आम लोगों का जाना मना है

 Dan Cooper के प्लेन से कूद जाने के बाद

10:15 मिनट में खुले ऐरस्टाइर के साथ Boeing 727 प्लेन Reno एयरपोर्ट पर लैंड करती है और प्लेन को पुलिस और FBI अजेंन्ट्स द्वारा चारों तरफ से घेर लिया जाता है लेकिन कुछ ही देर में उन्हें पता चल जाता है कि Dan Cooper भाग चुका है। इसके बाद प्लेन की छानबीन की जाती है जिसमें से Cooper के टाई का क्लिप और उसके मंगवाए गए 4 में से 2 पैराशूट मिलते है, Cooper बाकी के सभी सबूत को अपने साथ ले जाता है जिसमें उसके द्वारा फ्लाइट अटेंडेंट को दिया गया लेटर भी शामिल था। कूपर को पकड़ने के लिए FBI द्वारा NORJAK नाम से खोज शुरू की जाती है। आँखों देखे गए लोगों द्वारा Cooper का स्केच तैयार किया जाता है, लैंड किये गए इलाके के बहुत से किलोमीटर तक जंगलों और नदियों में कई महीनों तक खोज चलती है बहुत से घरों की छानबीन भी की जाती है लेकिन  कूपर और उसके पैराशूट का कोई पता नहीं चलता। कुछ ही दिनों में Dan Cooper पूरी मीडिया में छा जाता है लेकिन एक न्यूज़पेपर ने गलती से Dan Cooper का नाम D.B. Cooper लिख दिया था और लोगों को ये नाम ज्यादा पसन्द आने लगा, इस तरह से एक न्यूज़पेपर की गलती के कारण Dan Cooper का नाम D.B. Cooper रखा गया और वो हर जगह इसी नाम से प्रसिद्ध हो गया था। इसके बाद Cooper के भागने के तरीके से FBI को लगता है कि कूपर ने किसी पैराग्लाइडिंग स्कूल से ट्रेनिंग ली होगी इसलिए सभी ट्रेनिग स्कूलों में पूछताछ की जाती है और बहुत से पैराट्रूपर्स के रिकॉर्ड चेक किये जाते है लेकिन वे फिरसे सफल नहीं हो पाते। बहुत सी छानबीन के बाद भी जब Cooper का कुछ पता नही चला तो लोग मानने लगे कि लैंडिंग के दौरान कूपर की मौत हो गई होगी पर उसके मौत का भी कोई प्रमाण नहीं मिल सका क्योंकि न Cooper की लाश कभी मिली न पैसों का बैग और न ही पैराशूट कभी मिल पाया। लेकिन घटना के 8 साल बाद 10 फरबरी, 1980 को 8 साल के Brian Ingram नाम के बच्चे को Columbia नदी के किनारे अपने परिवार के साथ लकड़ी इकट्ठा करते हुए रेत के नीचे दबे हुए $20 के नोटों के तीन बंडल मिलते है, बहुत सालों से रेत के नीचे दबे होने के कारण नोट खराब हो गए थे पर बीच के कुछ नोट अभी भी सुरक्षित थे और अधिकारी इन नोटों के सीरियल नंबर देख कर पहचान जाते है कि ये वही नोट है जो उस रात Cooper को दिए गए थे। इस घटना के बाद Cooper के केस ने फिरसे तेजी पकड़ी। ये नोट यहाँ कैसे पहुंचे इस पर बहुत विवाद हुआ किसी का कहना था कि ये Cooper ने फिरौती में मांगे नोटों का कभी इस्तेमाल नहीं किया और उन्हें यहां छुपा कर रख दिया था और किसी का कहना था पैराग्लाइडिंग के समय नोट के कुछ बंडल Cooper के बैग से गिर कर यहाँ आ गए, ऐसी ही बहुत सी कहानियां बनाई गई पर इस घटना से Cooper का कुछ भी पता नहीं चल पाया लेकिन D.B. Cooper की हाइजैकिंग के बाद उनसे जुड़ा ये पहला सबूत मिला था। D.B. Cooper के इस केस के बारे में साल साल बहुत सी छानबीन होती रही लेकिन कोई भी पुख्ता सबूत कभी भी नहीं मिल पाया और आखिरकार हाइजैकिंग के 45 सालों बाद 2016 में इस केस को FBI द्वारा बंद कर दिया गया।

D.B. Cooper कौन था और कहाँ चला गया ये तो कभी भी पता नहीं चल पाया लेकिन वह दुनिया के इतिहास के सबसे शातिर चोरों में से एक बन गया और एक चोर होते हुए भी वह अमेरिका में एक मशहूर हस्ती बन गया था जिसकी चालाकी से सभी हैरान थे।


Post a Comment

0 Comments

Search This Site